यार का सताया हुआ है Yaar Ka Sataya Hua Hai Lyrics Hindi – B Praak

यार का सताया हुआ है Yaar Ka Sataya Hua Hai Lyrics Hindi – B Praak: This song is sung by B Praak and composed by B Praak while the lyrics are written by Jaani. Starring Nawazuddin Siddiqui and Shehnaaz Gill. Our team is sharing the lyrics of the Yaar Ka Sataya Hua Hai Song through this article so that you can remember the lyrics of the song without any errors.

Song Credits:

  • Song: Yaar Ka Sataya Hua Hai
  • Singer: B Praak
  • Music: B Praak
  • Lyricist: Jaani
  • Label: DM – Desi Melodies

यार का सताया हुआ है Yaar Ka Sataya Hua Hai Lyrics Hindi – B Praak:

मुझे लगता था
नशे में तुझे भूल जाऊंगा-x2
तू और याद आयी
तो लगा ऐसा नहीं करते
तू और शराब दोनो एक जैसा हो
दोनों नशा करते हैं
वफ़ा नहीं करते

बहारों की रुत है फिर भी मेरे-x2
बाग का फूल मुरझाया हुआ है
शराब पीते-पीते जिसके हाथ काँपते हो
तो ये समझो वो यार का सताया हुआ है
शराब पीते-पीते जिसके हाथ काँपते हो
तो ये समझो वो यार का सताया हुआ है
हम पीते नहीं है पिलाई गई
अब तक ना वो भुलाई गई
जो क़ब्रों पे बैठ के शायरी करे
हो वो ज़ख्मों ने शायर बनाया हुआ है

शराब पीते-पीते जिसके हाथ काँपते हो
तो ये समझो वो यार का सताया हुआ है
मेरे यार पीते-पीते जिसके हाथ काँपते हो
तो ये समझो वो यार का सताया हुआ है

हो मैने भिजवाई उसे झूठी खबर
के दुनिया से दूर मैं पक्का हुआ-x2
हो तुझपे जो मरता था
मर गया जानी
तुमने कहा चलो अच्छा हुआ
हो लोगों को देखा दफ़नाते हैं लोग
हो मैंने मुझे दफ़नाया हुआ है

शराब पीते-पीते जिसके हाथ काँपते हो
तो ये समझो वो यार का सताया हुआ है
मेरे यार पीते-पीते जिसके हाथ काँपते हो
तो ये समझो वो यार का सताया हुआ है

है रब यहाँ तो बात करे
हो मुझसे कभी मुलाक़ात करे-x2
टूटे दिलों को जोड़े नहीं
कैसे वो दिन को रात करे
मैं सच बोलू
रब यहाँ है ही नहीं
बस लोगों ने पागल बनाया हुआ है

शराब पीते-पीते जिसके हाथ काँपते हो
तो ये समझो वो यार का सताया हुआ है
मेरे यार पीते-पीते जिसके हाथ काँपते हो
तो ये समझो वो यार का सताया हुआ है

मैं पागल हूं
और बहुत पागल हूं-x2
मैं पागल हूं और बहुत पागल
पर ये भी बात है के दिल सच्चा है
छें तो लेता तुझको सरेआम मैं
पर मसला ये के शोहर तेरा आदमी अच्छा है

Read More:

Yaar Ka Sataya Hua Hai Lyrics Nawazuddin Siddiqui:

Mujhe lagta tha
Nashe mein tujhe bhool jaaunga-x2
Tu aur yaad aayi
To laga aisa nahi kartein
Tu aur sharaab dono ek jaise ho
Dono nasha karte hai
Wafa nahi kartein

Baharon ki roott hai phir bhi mere-x2
Baag ka phool murjhaya hua hai
Sharaab peete peete jiske haath kaanpte ho
Toh ye samjho woh yaar ka sataya hua hai
Sharaab peete penete jiske haath kaanpte ho
To ye samjhon woh yaar ka sataya hua hai
Hum peete nahi hai pilaayi gayi
Ab tak na wo bhulaai gayi
Jo qabron pe baith ke shayari kare
Ho woh zakhmo ne shayar banaya hua hai

Sharaab peete peete jiske haath kaanpte ho
To ye samjho woh yaar ka sataaya hua hai
Mere yaar peete peete jiske haath kaanpte ho
To ye samjho woh yaar ka sataaya hua hai

Ho maine bhijwaai use jhoothi khabar
Ke duniyan se door main pakka hua-x2
Ho tujhpe jo marta tha
Mar gaya jaani
Tumne kaha chalo accha hua
Ho logon ko dekha dafnaate hain log
Ho maine mujhe dafnaaya hua hai

Sharaab peete peete jiske haath kaanpte ho
Toh ye samjho woh yaar ka sataya hua hai
Sharaab peete penete jiske haath kaanpte ho
To ye samjhon woh yaar ka sataya hua hai

Hai rab yahaan to baat kare
Ho mujhse kabhi mulaqaat kare-x2
Toote dilon ko jode nahin
Kaise wo din ko raat kare
Main sach bolu
Rab yahaan hai hi nahin
Bas logon ne paagal banaaya hua hai

Sharaab peete peete jiske haath kaanpte ho
Toh ye samjho woh yaar ka sataya hua hai
Sharaab peete penete jiske haath kaanpte ho
To ye samjhon woh yaar ka sataya hua hai

Main paagal hoon
Aur bahut paagal hoon-x2
Par ye bhi baat hai ke dil saccha hai
Chhen toh leta tujhko sareaam main
Par masla ye ke shohar tera aadmi accha hai

Written by Jaani

error: Content is protected !!